TFD Fact-Check

TFD Fact-Check: इस डिजिटल युग में खबर पढ़ने, देखने और सुनने के लिए सोशल मीडिया और यूट्यूब का सहारा लिया जा रहा है। जिस स्पीड से खबरें शेयर हो रही है, उसी के साथ फेक न्यूज भी फैल रही है। आज के समय में फेक न्यूज और फैक्ट न्यूज के बीच में अंतर करना काफी कठीन हो गया है। आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के इस दौर में फेक जानकारी को सच बनाकर पेश किया जा रहा है। ऐसी ही एक खबर वाट्सएप को लेकर वायरल हो रही है, जिसमें बताया जा रहा है कि सरकार वाट्सएप पर कॉल रिकॉर्ड करने की तैयारी कर रही है। आज की स्टोरी में हम इसका पड़ताल करेंगे।

दावे में क्या है?

वायरल मैसेज में दावा किया जा रहा है कि केंद्र सरकार अब आम आदमी का पर्सनल कॉल सुनने जा रही है। वह कॉल रिकॉर्ड करने के अलावा उस व्यक्ति के सोशल मीडिया हैंडल पर पोस्ट होने वाले कंटेंट पर भी नजर रखेगी।इसमें लोगों को मोबाइल कम इस्तेमाल करने के लिए भी कहा जा रहा है ताकि वह इस जांच के दायरे से बाहर हो सके।

क्या है सच्चाई?

इस वायरल मैसेज की पड़ताल करने के लिए अंग्रेजी में हमने गूगल पर सर्च किया, जिसमें कीवर्ड लिखा, ‘ʜᴇ ɴᴇᴡ ᴄᴏᴍᴍᴜɴɪᴄᴀᴛɪᴏɴ ʀᴜʟᴇs ғᴏʀ WʜᴀᴛsAᴘᴘ ᴀɴᴅ WʜᴀᴛsAᴘᴘ Cᴀʟʟs (Vᴏɪᴄᴇ ᴀɴᴅ Vɪᴅᴇᴏ Cᴀʟʟs) ᴡɪʟʟ ʙᴇ ɪᴍᴘʟᴇᴍᴇɴᴛᴇᴅ ғʀᴏᴍ ᴛᴏᴍᴏʀʀᴏᴡ’। इस कीवर्ड पर जो सर्च रिजल्ट हमें गूगल पर दिखा वह 1 साल पुराना था। आप खुद से भी इस कीवर्ड को सर्च कर सकते हैं। इस दावे को दूसरे संस्थान द्वारा फैक्ट चेक कर गलत बताया जा चुका है। इसके बारे में सरकार के ऑफिशियल ट्विटर हैंडल पर जब हमने जानकारी लेनी चाही तो पता चला कि यह दावा गलत है। सरकार इसके बारे में ट्वीट कर नागरिक को गलत जानकारी से बचने का सलाह दे चुकी है। यानि कि यह दावा पूर्ण रूप से फर्जी है।

क्या है वाट्सएप का नियम?

इस दावे को और स्पष्ट तौर पर समझने के लिए हमें वाट्सएप का नियम भी जान लेना चाहिए ताकि यह पता चल सके कि 3 टिक के बारे में कोई जानकारी है या नहीं। जब आप कंपनी के ऑफिशियल वेबसाइट पर जाते हैं तो आपको पता चलता है कि सिंगल टिक का मतलब होता है कि मैसेज सेंड हो गया है, डबल टिक यानि कि मैसेज पहुंच गया है और डबल ब्लू टिक का मतलब ये हुआ कि मैसेज को पढ़ लिया गया है। इसमें 3 टिक के बारे में कोई जानकारी नहीं है।

कुल मिलाकर कहें तो यह दावा फर्जी है और इसमें कोई भी सच्चाई नहीं है। अगर आपके पास भी इस तरह की कोई खबर आती है तो उससे खुद को सतर्क रखें और अधिक जानकारी या फिर किसी दूसरे फर्जी खबर के बारे में पड़ताल करने के लिए द फैक्ट डिटेक्टर टीम को thefactdetector@gmail.com पर मेल भेज सकते हैं। हम जल्द उस खबर की जांच कर आपको तक सच्चाई लाने का काम करेंगे।

Related Post